दिल्ली, एबीपी गंगा। कृषि बिलों पर देश में बढ़ते विरोध के बीच भाजपा डैमज कंट्रोल में जुट गई है. इसी सिलसिले में भाजपा किसान मोर्चा के राष्ट्रीय अध्यक्ष और बलिया से सांसद वीरेंद्र सिंह मस्त ने इन बिलों के समर्थन के कारण गिनाए हैं. साथ ही उन्होंने इस मामले पर किसानों को भ्रमित करने का भी आरोप लगाया. उन्होंने कहा कि कुछ बाजारी ताकतों का मंडियों पर कब्ज़ा रहता है. उन्हीं लोगों के द्वारा भ्रम फैलाया जा रहा है.

हरसिमरत कौर के इस्तीफे पर सांसद ने कहा कि इस्तीफे के पीछे उनके व्यक्तिगत कारण हो सकते हैं. सांसद ने कहा कि हो सकता है वो भी (हरसिमरत कौर) भ्रम में आ गए हों. अपनी बात को आगे बढ़ाते हुए उन्होंने कहा कि सरकार ने संसद में स्पष्ट किया है कि न्यूनतम समर्थन मूल्य (MSP)खत्म नहीं किया जाएगा. सबको उस पर भरोसा करना चाहिए.

आत्मनिर्भर बनेगा किसान

सांसद ने कहा कि इस प्रक्रिया से किसान आत्मनिर्भर होगा और अपने उत्पाद कहीं भी ले जाकर बेच सकता है. उन्होंने दावा किया कि इससे किसान को फायदा होगा.

दबाव में कर रहे हैं प्रदर्शन किसान

किसानों के प्रदर्शन के मामले को लेकर सांसद ने कहा कि वे आढ़तियों के दवाब में हैं. उन्होंने कहा कि जो किसान प्रदर्शन कर रहे हैं वो बड़े आढ़तियों के दबाव में हैं. सांसद ने दावा किया कि जो जमीनी किसान हैं वो खुश हैं क्योंकि उन्हें फायदा होगा.

ये भी पढ़ेंः
किसान बिलों का मायावती ने किया विरोध, कहा- बीएसपी कतई भी सहमत नहीं

कृषि बिलः मायावती के बाद अखिलेश ने भी तोड़ी चुप्पी, बोले- किसानों का शोषण करने के लिए बीजेपी लाई विधेयक 



Source link

By admin

Leave a Reply

Your email address will not be published.

Translate to