हिमाचल प्रदेश महिला आयोग ने राष्ट्रीय महिला आयोग (एनसीडब्ल्यू) को बृहस्पतिवार को एक चिट्ठी लिख कर अनुरोध किया कि वह अभिनेत्री कंगना रनौत के “उत्पीड़न“ का मुद्दा उचित प्राधिकारियों के समक्ष उठाए. शिवसेना के नियंत्रण वाली बृहन्मुंबई महानगरपालिका (बीएमसी) ने 33 वर्षीय अभिनेत्री के बांद्रा स्थित बंगले में हुए “ अवैध बदलावों“ को तोड़ दिया है.

एनसीडब्ल्यू को लिखे पत्र में प्रदेश महिला आयोग के सदस्य सचिव संदीप नेगी ने कहा कि उन्होंने बीएमसी, मुंबई पुलिस और राजनीतिक नेताओं द्वारा रनौत के “उत्पीड़न की घटनाओं“ पर मीडिया में आई खबरों का स्वतः संज्ञान लिया है.

प्रदेश महिला आयोग ने कहा कि रनौत का संबंध हिमाचल प्रदेश से है और इस आयोग की मंशा मुद्दे को आपके कार्यालय के समक्ष उठाने की है ताकि आप मामले को उचित प्राधिकारियों के समक्ष उठा सकें. पत्र की एक प्रति महाराष्ट्र राज्य महिला आयोग की सदस्य सचिव को भी भेजी गई है.

बता दें कि कल कंगना रनौत गुरुवार को पाली हिल स्थित अपने दफ्तर पहुंचीं. कंगना के साथ उनकी बहन और उनकी मैनेजर भी पहुंचे जिन्होंने यहां पर BMC द्वारा की गई तोड़फोड़ और नुकसान का जायजा लिया. मालूम हो कि बुधवार को BMC ने कंगना के दफ्तर पर बुलडोजर चलाया था और उनके 48 करोड़ के दफ्तर में भारी तोड़फोड़ की थी.



Source link

By admin

Leave a Reply

Your email address will not be published.

Translate to