नई दिल्ली: NEET-JEE परीक्षा के मसले पर दाखिल पुनर्विचार याचिका की सुनवाई पर सुप्रीम कोर्ट (SC) कल फैसला लेगा. निर्धारित प्रक्रिया के मुताबिक जज बंद चैंबर में याचिका देख तय करेंगे कि इसे खुली अदालत में लगाना है या नहीं. 17 अगस्त को SC ने परीक्षा रोकने से मना किया था. गैर बीजेपी शासित 6 राज्यों के मंत्री ने पुनर्विचार याचिका दाखिल की है.

याचिका दाखिल करने वाले मंत्री हैं- प.बंगाल के मोलॉय घटक, झारखंड के रामेश्वर उरांव, छत्तीसगढ़ के अमरजीत भगत, पंजाब के बलबीर सिद्धू, महाराष्ट्र के उदय सामंत और राजस्थान के रघु शर्मा हैं.

इससे पहले सायंतन बिस्वास समेत 11 छात्रों ने सुप्रीम कोर्ट में याचिका दायर कर कहा था कि नेशनल टेस्टिंग एजेंसी (NTA) ने 1 से 6 सितंबर के बीच JEE (मेन) और 13 सितंबर को NEET की परीक्षा आयोजित करने की घोषणा की है. देश में जिस रफ्तार से इस समय कोरोना फैल रहा है; उसके मद्देनजर अभी परीक्षा का आयोजन छात्रों और उनके परिवार को स्वास्थ्य को गंभीर खतरा पैदा कर सकता है. इसलिए, स्थिति सामान्य होने तक परीक्षा स्थगित कर दी जाए.

17 अगस्त को मामला जस्टिस अरुण मिश्रा की अध्यक्षता वाली 3 जजों की बेंच के सामने लगा. लेकिन कोर्ट ने राष्ट्रीय स्तर पर मेडिकल और इंजीनियरिंग में दाखिले के लिए होने वाली इन परीक्षाओं को स्थगित करने का आदेश देने से मना कर दिया.

बता दें कि JEE की परीक्षा एक सितंबर से शुरू हो चुकी है. ऐसे में क्या उससे पहले सुप्रीम कोर्ट मामले पर विचार करेगा और बिल्कुल अंतिम समय में परीक्षा को स्थगित करने का आदेश देगा, यह कहा नहीं जा सकता.

लोन मोरेटोरियम मामला: 10 सितंबर तक सुनवाई टली, SC ने कहा- फिलहाल किसी भी अकाउंट को NPA घोषित न किया जाए



Source link

By admin

Leave a Reply

Your email address will not be published.

Translate to