नई दिल्ली: प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने अपनी बचत में से छात्राओं की शिक्षा से लेकर गंगा की सफाई तक जैसे कार्यों के लिए दान दिया है. साथ ही, प्रधानमंत्री को प्राप्त उपहारों की नीलामी से मिले धन को भी सार्वजनिक हित के लिए दान दिया गया है. लोक कल्याण के उद्देश्य से पीएम मोदी द्वारा विभिन्न माध्यमों से दिए गए दान की कुल राशि 103 करोड़ रुपये से अधिक है.

हाल ही में मोदी ने कोविड-19 के मद्देनजर स्थापित किए गए प्रधानमंत्री आपात स्थिति नागरिक सहायता और राहत कोष (पीएम केयर्स) में 2.25 लाख रुपए दान दिए थे. बुधवार को सार्वजनिक किए गए खाते के विवरण के अनुसार , मार्च में स्थापना के महज पांच के भीतर इस कोष में 3,076.62 करोड़ रुपये जमा हुए थे.

103 करोड़ रुपये की राशि दान दी
रिपोर्ट्स के अनुसार, साल 2019 में कुंभ मेले में सफाई कर्मचारियों के कल्याण के लिए बनाए गए कोष में प्रधानमंत्री ने अपनी निजी बचत में से 21 लाख रुपये दान दिए थे. दक्षिण कोरिया में 2019 में सियोल शांति पुरस्कार प्राप्त करने के बाद प्रधानमंत्री ने पुरस्कार में मिली 1.30 करोड़ रुपये की राशि को नमामि गंगे परियोजना में दान देने की घोषणा की थी.

मोदी द्वारा लोक कल्याण के लिए दिए गए दान की कुल राशि अब एक सौ तीन करोड़ रुपये से अधिक हो गई है. प्रधानमंत्री को मिले स्मृति चिह्नों की हाल ही में हुई नीलामी से तीन करोड़ चालीस लाख रुपए प्राप्त हुए जिन्हें नमामि गंगे परियोजना में दान दे दिया गया.

2014 में गुजरात के मुख्यमंत्री पद को छोड़कर प्रधानमंत्री की कुर्सी संभालने के बाद मोदी ने गुजरात सरकार में कार्यरत एक कर्मचारी की बेटी की शादी के लिए अपनी निजी बचत में से 21 लाख रुपये दान दे दिए थे. मोदी ने मुख्यमंत्री के तौर पर मिले उपहारों की नीलामी से प्राप्त 89.96 करोड़ रुपये ‘कन्या केलवणी कोष’ में दान दे दिए थे जो कि बालिकाओं की शिक्षा के लिए शुरू की गई एक योजना है. दरअसल, प्रधानमंत्री ने उपहारों की नीलामी 2015 में शुरू की थी जिससे प्राप्त 8.35 करोड़ रुपये की राशि को नमामि गंगे परियोजना में दान दे दिया गया था.

ये भी पढ़ें-
PM CARES Fund से जुड़ी बड़ी जानकारी, PM ने अपनी बचत से शुरु किया था फंड
पी चिदंबरम का सवाल- PM CARES FUND को 5 दिनों में मिले 3076 करोड़ रुपये, कौन हैं ये दाता?



Source link

By admin

Leave a Reply

Your email address will not be published.

Translate to