बॉलीवुड के दिग्गज अभिनेता शक्ति कपूर 90 के दशक से लेकर आज तक अपनी बेहतरीन एक्टिंग के लिए जाना जाते हैं. शक्ति कपूर आज 68 साल के हो चुके हैं. 3 सितंबर 1952 को दिल्ली के एक पंजाबी परिवार में जन्मे शक्ति कपूर का असली नाम सुनील सिकंदरलाल कपूर है. आपको बता दें. फिल्मों में काम करने के साथ-साथ फिल्म ‘रॉकी’ के दौरान सुनील दत्त ने उनका नाम बदलकर शक्ति कपूर कर दिया था. शक्ति के पिता सिकंदर लाल कपूर की दिल्ली के कनॉट प्लेस में टेलरिंग की दुकान थी, जबकि उनकी मां सुशीला हाउस वाइफ थीं.

शक्ति कपूर फिल्म इंडस्ट्री में आज जिस मुकाम पर हैं, वहां उन्होंने पहुंचने के लिए इस इंडस्ट्री में कड़ी मेहनत की हैं. साल 1980 के दौर में शक्ति कपूर को बतौर अभिनेता पहचाना जाने लगा. उस साल उनकी दो फिल्में कुरबानी और रॉकी ब्लॉकबस्टर हिट फिल्में साबित हुई थी. इन दोनों ही फिल्मों में उन्होंने मुख्य खलनायक की भूमिका अदा की थी.

View this post on Instagram

 

Time flies

A post shared by Shakti Kapoor (@shaktikapoor) on

साल 1983 में शक्ति जितेंद्र और श्रीदेवी स्टारर फिल्म हिम्मतवाला और सुभाष घई निर्देशित फिल्म हीरो में खलनायक के किरदार में नजर आए. अपनी चार फिल्मों खलनायकी का बेहतरीन अभिनय करने के बाद शक्ति कपूर बॉलीवुड के बेहतरीन खलनायकों की लिस्ट में आ गए थे. 80 और 90 के दशक में खलनायकी के किरदार के निर्देशकों और निर्मातायों की पहली पसंद अमरीश पूरी या फिर शक्ति कपूर ही होते थे.

90 के दशक में शक्ति कपूर ने खलनायकी के किरदार को निभाने थोड़े कम कर दिए थे और कॉमिक रोल करने शुरू कर दिए थे. जिस तरह वो पूरे परफेक्शन के साथ खलनायकी की भूमिका निभाते हैं उसी तरह उन्होंने कॉमिक रोल निभाए. उन्हें उनकी बेहतरीन कॉमिक टाइमिंग के लिए फिल्म राजा बाबू के नंदू की भूमिका अदा करने के लिए फिल्मफेयर अवार्ड से सम्मानित किया जा चुका है.





Source link

By admin

7 thoughts on “Shakti Kapoor: From Playing Villain To Hero, Why Did He Changed Name”

Leave a Reply

Your email address will not be published.

Translate to