एसबीआई अपने सीनियर अफसरों को परफॉरमेंस की कसौटी पर पर कसने की तैयारी कर रहा है. बैंक अपने सीनियर अफसरों का कार्यकाल बढ़ाने के लिए बैंक इवॉल्यूशन मैट्रिक्स की मदद लेगा. यानी उनके कामकाज की समीक्षा के पैमाने बनेंगे. इसके आधार पर ही आगे उनकी सेवाओं को विस्तार मिलेगा. इसके साथ ही बैंक मौजूदा कर्मचारियों के लिए वीआरएस स्कीम भी लेकर आ रहा है. बैंक वीआरएस पर सरकार से बातचीत के बाद कोई नियम तय करेगा. लेकिन इस बीच एसबीआई कर्मचारी यूनियन ने इसका कड़ा विरोध किया है.

परफॉरमेंस आंकने के लिए बना मैट्रिक्स 

एसबीआई ने कहा है कि अफसरों को सेवा विस्तार देने में उनकी परफॉरमेंस का आकलन करने के लिए प्रभावी और निष्पक्ष पैमाना तैयार किया जाएगा. अफसरों को सेवा विस्तार देने में पहले स्टेज का मूल्यांकन उनकी 30 साल की सर्विस या 55 साल की उम्र तक सेवा जैसे पैमाने बनाए जा सकते हैं. इनमें से जो भी पहले आएगा उसके आधार पर 58 साल की उम्र तक सेवा विस्तार दिया जाएगा. एसबीआई के देश भर में ढाई लाख कर्मचारी हैं.

वीआरएस भी ले सकते हैं अफसर और कर्मचारी 

मूल्यांकन का दूसरा चरण 58 साल के बाद होगा, इसके आधार पर तय होगा कि कर्मचारी के 60 साल की उम्र तक सेवा विस्तार दिया जाए या नहीं. इस वक्त कोई अफसर 50 साल की उम्र या 25 साल की नौकरी पूरी करने के बाद रिटायरमेंट ले सकता है. इसके लिए उसे तीन महीने का नोटिस या इतने महीने का वेतन देना होगा. 20 साल की सर्विस के बाद भी स्वैच्छिक रिटायरमेंट लिया जा सकता है.

ये हैं दुनिया के टॉप 10 सबसे अमीर परिवार, जानिए कितनी है इनकी कुल संपत्ति

Investment Tips: अगर NPS अकाउंट हो गया हो फ्रीज तो ऐसे कराएं री-एक्टिवेट



Source link

By admin

Leave a Reply

Your email address will not be published.

Translate to